Announcement

Collapse
No announcement yet.

ADITYA HRIDAYAM

Collapse
X
 
  • Filter
  • Time
  • Show
Clear All
new posts

  • ADITYA HRIDAYAM

    Dear members,


    Sage Agasthya Muni gave this powerful Mantra to Sri Rama when Rama was perplexed, while fighting with Ravana. After chanting this Hymn three times Sri Rama defeated Ravana.

    The Aditya Hridayam, is a hymn in glorification of the Sun or Surya and was recited by the great sage Agastya to Lord Rama on the battlefield before fighting with Ravana. This historic hymn starts at the beginning of the Battle with Ravana, when Lord Rama is fatigued and getting ready to fight. The mystical hymn is dircted to the Sun God, the illustrious lord of all victories.

    The Adityta-Hridyam Hymn is part of the Yuddha Kanda of Valmiki Ramayana (the chapter of war) and contains 31 slokas. By Reciting this stotra daily, one can attain great success, happiness and welfare of oneself and his family, attain good health and increase the positive energy.
    Let us recite this beautiful stotra everyday at Sun rise and get his blessings!
    Varadarajan




    ॥ आदित्यहृदयम्॥

    ततो युद्धपरिश्रान्तं समरे चिन्तया स्थितम्।
    रावणं चाग्रतो दृष्ट्वा युद्धाय समुपस्थितम्॥ १॥

    दैवतैश्च समागम्य द्रष्टुमभ्यागतो रणम्।
    उपागम्याब्रवीद्राममगस्त्यो भगवान् ऋषिः॥ २॥

    राम राम महाबाहो शृणु गुह्यं सनातनम्।
    येन सर्वानरीन् वत्स समरे विजयिष्यसि॥ ३॥

    आदित्यहृदयं पुण्यं सर्वशत्रुविनाशनम्।
    जयावहं जपेन्नित्यम् अक्षय्यं परमं शिवम्॥ ४॥

    सर्वमङ्गलमाङ्गल्यं सर्वपापप्रणाशनम्।
    चिन्ताशोकप्रशमनम् आयुर्वर्धनमुत्तमम्॥ ५॥

    रश्मिमंतं समुद्यन्तं देवासुरनमस्कृतम्।
    पूजयस्व विवस्वन्तं भास्करं भुवनेश्वरम्॥ ६॥

    सर्वदेवात्मको ह्येष तेजस्वी रश्मिभावनः।
    एष देवासुरगणाँल्लोकान् पाति गभस्तिभिः॥ ७॥

    एष ब्रह्मा च विष्णुश्च शिवः स्कन्दः प्रजापतिः।
    महेन्द्रो धनदः कालो यमः सोमो ह्यपां पतिः॥ ८॥

    पितरो वसवः साध्या ह्यश्विनौ मरुतो मनुः।
    वायुर्वह्निः प्रजाप्राण ऋतुकर्ता प्रभाकरः॥ ९॥

    आदित्यः सविता सूर्यः खगः पूषा गभस्तिमान्।
    सुवर्णसदृशो भानुर्हिरण्यरेता दिवाकरः॥ १०॥

    हरिदश्वः सहस्रार्चिः सप्तसप्तिर्मरीचिमान्।
    तिमिरोन्मथनः शम्भुस्त्वष्टा मार्ताण्ड अंशुमान्॥ ११॥

    हिरण्यगर्भः शिशिरस्तपनो भास्करो रविः।
    अग्निगर्भोऽदितेः पुत्रः शङ्खः शिशिरनाशनः॥ १२॥

    व्योमनाथस्तमोभेदी ऋग्यजुःसामपारगः।
    घनवृष्टिरपां मित्रो विन्ध्यवीथीप्लवङ्गमः॥ १३॥

    आतपी मण्डली मृत्युः पिङ्गलः सर्वतापनः।
    कविर्विश्वो महातेजाः रक्तः सर्वभवोद्भवः॥ १४॥

    नक्षत्रग्रहताराणामधिपो विश्वभावनः।
    तेजसामपि तेजस्वी द्वादशात्मन् नमोऽस्तु ते॥ १५॥

    नमः पूर्वाय गिरये पश्चिमायाद्रये नमः।
    ज्योतिर्गणानां पतये दिनाधिपतये नमः॥ १६॥

    जयाय जयभद्राय हर्यश्वाय नमो नमः।
    नमो नमः सहस्रांशो आदित्याय नमो नमः॥ १७॥

    नम उग्राय वीराय सारङ्गाय नमो नमः।
    नमः पद्मप्रबोधाय मार्ताण्डाय नमो नमः॥ १८॥

    ब्रह्मेशानाच्युतेशाय सूर्यायादित्यवर्चसे।
    भास्वते सर्वभक्षाय रौद्राय वपुषे नमः॥ १९॥

    तमोघ्नाय हिमघ्नाय शत्रुघ्नायामितात्मने।
    कृतघ्नघ्नाय देवाय ज्योतिषां पतये नमः॥ २०॥

    तप्तचामीकराभाय वह्नये विश्वकर्मणे।
    नमस्तमोऽभिनिघ्नाय रुचये लोकसाक्षिणे॥ २१॥

    नाशयत्येष वै भूतं तदेव सृजति प्रभुः।
    पायत्येष तपत्येष वर्षत्येष गभस्तिभिः॥ २२॥

    एष सुप्तेषु जागर्ति भूतेषु परिनिष्ठितः।
    एष एवाग्निहोत्रं च फलं चैवाग्निहोत्रिणाम्॥ २३॥

    वेदाश्च क्रतवश्चैव क्रतूनां फलमेव च।
    यानि कृत्यानि लोकेषु सर्व एष रविः प्रभुः॥ २४॥

    ॥ फलश्रुतिः॥

    एनमापत्सु कृच्छ्रेषु कान्तारेषु भयेषु च।
    कीर्तयन् पुरुषः कश्चिन्नावसीदति राघव॥ २५॥

    पूजयस्वैनमेकाग्रो देवदेवं जगत्पतिम्।
    एतत् त्रिगुणितं जप्त्वा युद्धेषु विजयिष्यसि॥ २६॥

    अस्मिन् क्षणे महाबाहो रावणं त्वं वधिष्यसि।
    एवमुक्त्वा तदागस्त्यो जगाम च यथागतम्॥ २७॥

    एतच्छ्रुत्वा महातेजा नष्टशोकोऽभवत्तदा।
    धारयामास सुप्रीतो राघवः प्रयतात्मवान्॥ २८॥

    आदित्यं प्रेक्ष्य जप्त्वा तु परं हर्षमवाप्तवान्।
    त्रिराचम्य शुचिर्भूत्वा धनुरादाय वीर्यवान्॥ २९॥

    रावणं प्रेक्ष्य हृष्टात्मा युद्धाय समुपागमत्।
    सर्वयत्नेन महता वधे तस्य धृतोऽभवत्॥ ३०॥

    अथ रविरवदन्निरीक्ष्य रामं
    मुदितमनाः परमं प्रहृष्यमाणः।
    निशिचरपतिसंक्षयं विदित्वा
    सुरगणमध्यगतो वचस्त्वरेति॥ ३१॥

    ॥ इति आदित्यहृदयम् मन्त्रस्य॥

    IN TAMIL

    || ஆதித்யஹ்ருʼதயம்||

    ததோ யுத்த⁴பரிஶ்ராந்தம்ʼ ஸமரே சிந்தயா ஸ்திதம்|
    ராவணம்ʼ சாக்ரதோ த்ருʼஷ்ட்வா யுத்தா⁴ய ஸமுபஸ்திதம்|| 1||

    தைவதைஶ்ச ஸமாகம்ய த்ரஷ்டுமப்⁴யாகதோ ரணம்|
    உபாகம்யாப்ரவீத்ராமமகஸ்த்யோ ப⁴கவான் ருʼஷி​:|| 2||

    ராம ராம மஹாபாஹோ ஶ்ருʼணு குஹ்யம்ʼ ஸனாதனம்|
    யேன ஸர்வானரீன் வத்ஸ ஸமரே விஜயிஷ்யஸி|| 3||

    ஆதித்யஹ்ருʼதயம்ʼ புண்யம்ʼ ஸர்வஶத்ருவினாஶனம்|
    ஜயாவஹம்ʼ ஜபேன்னித்யம் அக்ஷய்யம்ʼ பரமம்ʼ ஶிவம்|| 4||

    ஸர்வமங்கலமாங்கல்யம்ʼ ஸர்வபாபப்ரணாஶனம்|
    சிந்தாஶோகப்ரஶமனம் ஆயுர்வர்த⁴னமுத்தமம்|| 5||

    ரஶ்மிமந்தம்ʼ ஸமுத்யந்தம்ʼ தேவாஸுரனமஸ்க்ருʼதம்|
    பூஜயஸ்வ விவஸ்வந்தம்ʼ பா⁴ஸ்கரம்ʼ பு⁴வனேஶ்வரம்|| 6||

    ஸர்வதேவாத்மகோ ஹ்யேஷ தேஜஸ்வீ ரஶ்மிபா⁴வன​:|
    ஏஷ தேவாஸுரகணாம் ̐ல்லோகான் பாதி கப⁴ஸ்திபி⁴​:|| 7||

    ஏஷ ப்ரஹ்மா ச விஷ்ணுஶ்ச ஶிவ​: ஸ்கந்த​: ப்ரஜாபதி​:|
    மஹேந்த்ரோ த⁴னத​: காலோ யம​: ஸோமோ ஹ்யபாம்ʼ பதி​:|| 8||

    பிதரோ வஸவ​: ஸாத்⁴யா ஹ்யஶ்வினௌ மருதோ மனு​:|
    வாயுர்வஹ்னி​: ப்ரஜாப்ராண ருʼதுகர்தா ப்ரபா⁴கர​:|| 9||

    ஆதித்ய​: ஸவிதா ஸூர்ய​: கக​: பூஷா கப⁴ஸ்திமான்|
    ஸுவர்ணஸத்ருʼஶோ பா⁴னுர்ஹிரண்யரேதா திவாகர​:|| 10||

    ஹரிதஶ்வ​: ஸஹஸ்ரார்சி​: ஸப்தஸப்திர்மரீசிமான்|
    திமிரோன்மதன​: ஶம்பு⁴ஸ்த்வஷ்டா மார்தாண்ட அம்ʼஶுமான்|| 11||

    ஹிரண்யகர்ப⁴​: ஶிஶிரஸ்தபனோ பா⁴ஸ்கரோ ரவி​:|
    அக்னிகர்போ⁴(அ)திதே​: புத்ர​: ஶங்க​: ஶிஶிரனாஶன​:|| 12||

    வ்யோமனாதஸ்தமோபே⁴தீ ருʼக்யஜு​:ஸாமபாரக​:|
    க⁴னவ்ருʼஷ்டிரபாம்ʼ மித்ரோ விந்த்⁴யவீதீப்லவங்கம​:|| 13||

    ஆதபீ மண்டலீ ம்ருʼத்யு​: பிங்கல​: ஸர்வதாபன​:|
    கவிர்விஶ்வோ மஹாதேஜா​: ரக்த​: ஸர்வப⁴வோத்ப⁴வ​:|| 14||

    நக்ஷத்ரக்ரஹதாராணாமதி⁴போ விஶ்வபா⁴வன​:|
    தேஜஸாமபி தேஜஸ்வீ த்வாதஶாத்மன் நமோ(அ)ஸ்து தே|| 15||

    நம​: பூர்வாய கிரயே பஶ்சிமாயாத்ரயே நம​:|
    ஜ்யோதிர்கணானாம்ʼ பதயே தினாதி⁴பதயே நம​:|| 16||

    ஜயாய ஜயப⁴த்ராய ஹர்யஶ்வாய நமோ நம​:|
    நமோ நம​: ஸஹஸ்ராம்ʼஶோ ஆதித்யாய நமோ நம​:|| 17||

    நம உக்ராய வீராய ஸாரங்காய நமோ நம​:|
    நம​: பத்மப்ரபோதா⁴ய மார்தாண்டாய நமோ நம​:|| 18||

    ப்ரஹ்மேஶானாச்யுதேஶாய ஸூர்யாயாதித்யவர்சஸே|
    பா⁴ஸ்வதே ஸர்வப⁴க்ஷாய ரௌத்ராய வபுஷே நம​:|| 19||

    தமோக்⁴னாய ஹிமக்⁴னாய ஶத்ருக்⁴னாயாமிதாத்மனே|
    க்ருʼதக்⁴னக்⁴னாய தேவாய ஜ்யோதிஷாம்ʼ பதயே நம​:|| 20||

    தப்தசாமீகராபா⁴ய வஹ்னயே விஶ்வகர்மணே|
    நமஸ்தமோ(அ)பி⁴னிக்⁴னாய ருசயே லோகஸாக்ஷிணே|| 21||

    நாஶயத்யேஷ வை பூ⁴தம்ʼ ததேவ ஸ்ருʼஜதி ப்ரபு⁴​:|
    பாயத்யேஷ தபத்யேஷ வர்ஷத்யேஷ கப⁴ஸ்திபி⁴​:|| 22||

    ஏஷ ஸுப்தேஷு ஜாகர்தி பூ⁴தேஷு பரினிஷ்டித​:|
    ஏஷ ஏவாக்னிஹோத்ரம்ʼ ச பலம்ʼ சைவாக்னிஹோத்ரிணாம்|| 23||

    வேதாஶ்ச க்ரதவஶ்சைவ க்ரதூனாம்ʼ பலமேவ ச|
    யானி க்ருʼத்யானி லோகேஷு ஸர்வ ஏஷ ரவி​: ப்ரபு⁴​:|| 24||

    || பலஶ்ருதி​:||

    ஏனமாபத்ஸு க்ருʼச்ச்ரேஷு காந்தாரேஷு ப⁴யேஷு ச|
    கீர்தயன் புருஷ​: கஶ்சின்னாவஸீததி ராக⁴வ|| 25||

    பூஜயஸ்வைனமேகாக்ரோ தேவதேவம்ʼ ஜகத்பதிம்|
    ஏதத் த்ரிகுணிதம்ʼ ஜப்த்வா யுத்தே⁴ஷு விஜயிஷ்யஸி|| 26||

    அஸ்மின் க்ஷணே மஹாபாஹோ ராவணம்ʼ த்வம்ʼ வதி⁴ஷ்யஸி|
    ஏவமுக்த்வா ததாகஸ்த்யோ ஜகாம ச யதாகதம்|| 27||

    ஏதச்ச்ருத்வா மஹாதேஜா நஷ்டஶோகோ(அ)ப⁴வத்ததா|
    தா⁴ரயாமாஸ ஸுப்ரீதோ ராக⁴வ​: ப்ரயதாத்மவான்|| 28||

    ஆதித்யம்ʼ ப்ரேக்ஷ்ய ஜப்த்வா து பரம்ʼ ஹர்ஷமவாப்தவான்|
    த்ரிராசம்ய ஶுசிர்பூ⁴த்வா த⁴னுராதாய வீர்யவான்|| 29||

    ராவணம்ʼ ப்ரேக்ஷ்ய ஹ்ருʼஷ்டாத்மா யுத்தா⁴ய ஸமுபாகமத்|
    ஸர்வயத்னேன மஹதா வதே⁴ தஸ்ய த்⁴ருʼதோ(அ)ப⁴வத்|| 30||

    அத ரவிரவதன்னிரீக்ஷ்ய ராமம்ʼ
    முதிதமனா​: பரமம்ʼ ப்ரஹ்ருʼஷ்யமாண​:|
    நிஶிசரபதிஸங்க்ஷயம்ʼ விதித்வா
    ஸுரகணமத்⁴யகதோ வசஸ்த்வரேதி|| 31||
Working...
X