...............................श्रीः
॥ श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम् सुन्दरकाण्डम्॥
**********प्रथमः सर्गः। १ ।।
---------------
ताराचितमिवाकाशं प्रबभौ स महार्णवः ॥ ६० ॥
पुष्पौघेणानुबद्धेन नानावर्णेन वानरः।
बभौ मेघ इवोद्यन् वै विद्युद्गणविभूषितः ॥ ६१ ॥

---------www.brahminsnet.com------------------
सः...............- அந்த
महार्णवः ........- பெருங்கடல்
ताराचितं......- நக்ஷத்திரங்கள் நிரம்பிய......
आकाशं इव
.- ஆகாசம் போல
प्रबभौ ........- திகழ்ந்தது
अनुबद्धेन ...
..- பின்தொடர்ந்து மேலேபடிந்த
नानावर्णेन
....- பற்பலநிறமுள்ள
पुष्पौघेण .......-
மலர்க்குவியலால்
विद्युद्गण ......- மின்னல்கொடிகளால்
विभूषितः.....- அலங்கரிக்கப்பட்ட
उद्यन्............- மேலெழுந்த
मेघः इव......- மேகம் போலவே
वानरः बभौ वै.- வானரர் விளங்கினர்.
---------------- End of 61 --------------------