Sri:
।। श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम् – सुन्दरकाण्डम्॥
प्रथमः सर्गः।। १ ।।
दुष्करं निष्प्रतिद्वनद्वं चिकीर्षन् कर्म वानरः।
समुदग्रशिरोग्रीवो गवां पतिरिवाभौ।।२।।
वानरः - வானரர்
निष्प्रतिद्वनद्वं - ஒப்பற்றதும்
दुष्करं - மற்றெவரும் செய்ய முடியாததுமான
कर्म - காரியத்தை
चिकीर्षन्। - செய்ய விரும்பியவராய்
समुदग्रशिरोग्रीवः - தலையையும் கழுத்தையும் உயர்த்தியவராய்
गवां पतिः इव - ஆணெருதுபோல்
आबभौ - விளங்கினார்.


------ End of 2 -------