।। श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम् – सुन्दरकाण्डम्॥
प्रथमः सर्गः ।। १ ।।
-----------------------------------
नीललोहितमाञ्जिष्ठपद्मवर्णैः सितासितैः।
स्वभावविहितैश्चित्रैर्धातुभिः समलंकृतम् ।। 5 ।।


स्वभावविहितैः – இயற்கையாய் அமைந்துள்ள
नीललोहितमाञ्जिष्ठपद्मवर्णैः - நீலம், சிவப்பு, மஞ்சள், பத்மவர்ணம்
இந்த வர்ணங்களோடும்
सितासितैः - வெளுப்பு, கறுப்புகளோடும்
चित्रैः - விசித்ரங்களான
धातुभिः - காவிக்கற்களாலும்
समलंकृतम् - அலங்கரிக்கப்பட்டு விளங்குவது.
-------------- End of 5 ---------