श्रीः
।। श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम् सुन्दरकाण्डम्॥
प्रथमः सर्गः। १ ।।

सेव्यमाने गिरिश्रेष्टे बहुनागवरायुते ।
तिष्ठन् गपिवरस्तत्र ह्रदे नाग इवाबभौ ।। ७ ।।


तत्र அந்த
बहुनागवरायुते - அநேக சிறந்த யானை களால் நிறைந்த
सेव्यमाने - பூஜார்ஹமான
गिरिश्रेष्टे - கிரிச்ரேஷ்டத்தில்
तिष्ठन् - நிற்கும்
कपिवरः - வானரோத்தமர்
ह्रदे - மடுவில்
नागः इव - யானைபோல்
आबभौ - விளங்கினார்.
------- End of 7 ----------------------