श्रीः
।। श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम् सुन्दरकाण्डम्॥
प्रथमः सर्गः। १ ।।

प्लवङ्गप्रवरैर्दृष्टः प्लवने कृतनिश्चयः।

ववृधे रामवृद्ध्यर्थं समुद्र इव पर्वसु ।। १३ ।।
---------------------------------------------------
प्लवङ्गप्रवरैः வானரச்ரேஷ்டர்களால்
दृष्टः - பார்துக்கொண்டிருக்கப்பட்டவராய்
प्लवने - தாண்டுவதில்
कृतनिश्चयः - திடமாக மனதைச் செலுத்தியவராய்
पर्वसु - பர்வ தினங்களில்
समुद्रः - ஸமுத்திரம்
इव - போல்
रामवृद्ध्यर्थं - ஸ்ரீராமகார்யஸித்திக்காக
ववृधे - உயர்ந்தோங்கினார்.


------ End of - 13 -------------