श्रीः
।। श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम् – सुन्दरकाण्डम्॥
प्रथमः सर्गः। १ ।।
–––––––––––––––––––––––––––
निष्प्रमाणशरीरः सन् लिलङ्घयिषुरर्णवम् ।
प्रगृह्य बलवान् बाहू लङ्कामभिमुखः स्थितः।
बाहुभ्यां पीडयामास चरणाभ्यां च पर्वतम् ॥ १४ ॥।।
-----------------www.brahminsent.com---------------------------
बलवान् - பலவானான அவர்
बाहू - முன்னங்கால்களிரண்டையும்
प्रगृह्य - முன் நீட்டிவைத்து
लङ्कां - லங்கையை
अभिमुिखः - நோக்கியவராய்
स्थितः - நின்றுகொண்டு
अर्णवं - ஸமுத்திரத்தை
लिलङ्घयिषुः - தாண்ட விரும்பியவராய்
निष्प्रमाण शरीरः सन् - அளவிலடங்காத
சரீரத்தையுடையவராய்
चरणाभ्यां - பின்னங்கால்களிரண்டாலும்
बाहुभ्यां च - முன்னங்கால்களிரண்டாலும்
पर्वतं - மலையை
पीडयामास - ஊன்றியமுக்கினார்.
-----------------End of 14 ---------------------------