श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम् – सुन्दरकाण्डम् - Sundara Kandam
।। श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम् – सुन्दरकाण्डम्॥
प्रथमः सर्गः। १ ।।
हनुमतः समुद्रतरणम् – ஆஞ்சநேயர் ஸமுத்திரத்தைத் தாண்டுதல்.
---------------------------
ततोरावणनीतायाः सीतायाः शत्रुकर्शनः।
इयेष पदमन्वेष्टुं चारणाचरिते पथि।। १।।
ततः –– பிறகு
शत्रुकर्शनः ---- சத்ருக்களின் உருவழிக்கும் அவர்
चारणाचरिते ---- சாரணரென்னும் தேவர்கள் சஞ்சரிக்கின்ற
पथि ---- மார்கத்தில்
रावणनीतायाः ---- ராவணனால் (திருடிக்) கொண்டு போகப்பட்ட
सीतायाः ---- ஸீதையின்
पदम् ----- இருப்பிடத்தை
अन्वेष्टुं ----- தேட
इयेष ----- அவா கொண்டார்.
Daily one verse.