Latest Info from Administrator.
Warm Welcome to www.brahminsnet.com >>> Fast Registration Limited access only! Click to Register with full access!
Results 1 to 1 of 1

Threaded View

Previous Post Previous Post   Next Post Next Post
  1. #1
    Moderator Crown sridharv1946's Avatar
    Join Date
    Oct 2011
    Location
    Chennai Medavakkam
    Posts
    1,601
    Downloads
    1
    Uploads
    0
    Rep Power
    250
    Font Size

    Default मुकुन्दमाला 15/40 உன்னையே நினைக்க அருள்வாய் !





    मा द्राक्षम् क्षीण - पुण्यान् क्षणम् अपि भवतो भक्ति - हीनान् पदाब्जे
    मा श्रौषम् श्राव्य-बन्धम् तव चरितम् अपास्य अन्यत् आख्यान - जातम्
    मा स्मर्षम् माधव त्वाम् अपि भुवन - पते चेतसा अपह्नुवानान्
    मा भूवम् त्वत् - सपर्या - व्यतिकर - रहितो जन्म - जन्मान्तरेऽपि ||






    Dear you, Thanks for Visiting Brahmins Net!
    JaiHind! Feel free to post whatever you think useful, legal or humer! Click here to Invite Friends






    माधव மாதவா
    भुवन - पते புவன - பதியே
    भवतो पदाब्जे தங்களுடைய திருவடித் தாமரைகளில்
    भक्ति - हीनान् பக்தி இல்லாத
    क्षीण - पुण्यान् புண்யம் அற்றவர்களை
    क्षणम् अपि ஒரு கணம் கூட
    मा द्राक्षम् பார்க்க மாட்டேன்
    तव चरितम् अपास्य தங்கள் கதைகளை விட்டு
    अन्यत् आख्यान - जातम् வேறு கதைகளைச் சொல்ல வரும்
    श्राव्य-बन्धम् வேறு விஷயங்களை
    मा श्रौषम् கேட்க மாட்டேன்
    त्वाम् चेतसा अपिअपह्नुवानान् தங்களை மனத்தால் கூட நினைக்காதவர்களை
    मा स्मर्षम् நினைக்க மாட்டேன்
    जन्म - जन्मान्तरेऽपि எல்லாப் பிறவிகளிலும்
    त्वत् - सपर्या - व्यतिकर - रहितो உனக்கு பூஜை செய்யாமல்
    मा भूवम् இருக்க மாட்டேன்



    Last edited by sridharv1946; 31-01-2014 at 07:44 PM.

  2. Dear Unregistered,Welcome!

Tags for this Thread

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •